अकाउंट लॉक करने पर भड़के ‘2 करोड़ी’ राहुल गाँधी, बताया ट्विटर का खतरनाक खेल

दिलचस्प बात यह है कि राहुल गाँधी जिस 'राय' की बात कर रहे हैं, वह केवल उनकी क्षुद्र राजनीति का हिस्सा है। एक नाबालिग बलात्कार पीड़िता की पहचान से समझौता करने के उनके कथित अधिकार का हमारा कानून अनुमति नहीं देता है।

खास ख़बरें

कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी के बाद ट्विटर ने कॉन्ग्रेस पार्टी के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल को भी लॉक कर दिया है। इसको लेकर राहुल गाँधी ने कंपनी पर हमला बोला है। राहुल ने अपने आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर ‘ट्विटर का डेंजरस गेम’ शीर्षक वाला एक वीडियो जारी किया है। डेढ़ मिनट से ज्यादा के वीडियो में उन्होंने आरोप लगाया है कि ट्विटर उनके अकाउंट बंद करके भारत की राजनीति में हस्तक्षेप कर रहा है।

कॉन्ग्रेस नेता ने शुक्रवार (13 अगस्त) को कहा कि मुझे लगता था कि मीडिया के बाद टि्वटर रोशनी की एक किरण है, जहाँ हम जो सोचते हैं उसे शेयर कर सकते हैं। लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। ट्विटर भी वही सुनता है, जो सरकार कहती है।  

राहुल गाँधी

उन्होंने कहा, ”यह राहुल गाँधी पर हमला नहीं है, बल्कि देश के लोकतांत्रिक ढाँचे पर हमला है। मेरे 19-20 मिलियन (करीब 2 करोड़) फॉलोअर्स हैं। आप उन्हें राय देने के अधिकार से वंचित कर रहे हैं। ट्विटर का रवैया पक्षपातपूर्ण हैं।”

दिलचस्प बात यह है कि राहुल गाँधी जिस ‘राय’ की बात कर रहे हैं, वह केवल उनकी क्षुद्र राजनीति का हिस्सा है। एक नाबालिग बलात्कार पीड़िता की पहचान से समझौता करने के उनके कथित अधिकार का हमारा कानून अनुमति नहीं देता है। वायनाड के सांसद ने ट्विटर पर केंद्र सरकार के निर्देश का पालन करने और उनके प्रति झुकाव रखने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अब यह स्पष्ट हो गया है कि ट्विटर एक तटस्थ मंच नहीं है। यह एक पक्षपाती मंच है, जो सरकार के अनुसार कार्य करता है।

माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट के खिलाफ, पूर्व कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि उनके अकाउंट को लॉक करना सही निर्णय नहीं है। इससे लोगों में यह संदेश गया कि ट्विटर एक तटस्थ मंच नहीं है। सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी को धमकी देते हुए गाँधी ने कहा, “निवेशकों के लिए यह बहुत खतरनाक बात है, क्योंकि राजनीतिक तौर पर पक्ष लेने से ट्विटर पर इसका असर पड़ता है।” मालूम हो कि जब केंद्र सरकार ने ट्विटर पर लगाम लगाने के लिए उसे नए आईटी नियमों को मानने के लिए कहा था, तब राहुल गाँधी सरकार के इस फैसले को उनकी राजनीति का हिस्सा बताया था। साथ ही ट्विटर का बचाव किया था।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें