प्रेमी संग मिलकर पति व बेटे को फंसाने वाली महिला समेत 3 गिरफ्तार, खुद को लगवाई थी गोली

खास ख़बरें

गाजियाबाद, 09 सितंबर (वेब वार्ता)। 7 सितम्बर को सब्जी मंडी के सामने ऑटो से उतरते वक्त हुए महिला पर जानलेवा हमले के मामले का इंदिरापुरम पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। इस मामले में पुलिस ने घायल महिला और उसके प्रेमी समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से घटना में इस्तेमाल की गई स्कूटी, तमंचा और खून से सने कपड़े बरामद किए हैं। पुलिस का कहना है कि महिला ने अपने पति और बेटे को फंसाने की नीयत से प्रेमी संग मिलकर खुद पर जानलेवा हमला करने की साजिश रची थी। वह बेटे द्वारा अपने और प्रेमी के खिलाफ दर्ज कराई गई रिपोर्ट की काट में एफआईआर दर्ज कराकर उन्हें फंसाना चाहती थी। महिला को गोली मारने वाला भाड़े का शूटर अभी फरार है। उसकी तलाश की जा रही है।

सीओ इंदिरापुरम अभय कुमार मिश्र ने बताया कि पुलिस ने घूकना, नंदग्राम निवासी बेबी चौधरी और विजयनगर निवासी उसके प्रेमी विजय बैंसला व उसके दोस्त सुनील कुमार को गिरफ्तार किया है। जबकि बेबी को साजिशन गोली मारने वाला शूटर विजयनगर निवासी कपिल अभी फरार है। उसकी तलाश की जा रही है। सीओ का कहना है कि 7 सितम्बर को सुबह करीब 7 बजे इंदिरापुरम थानाक्षेत्र में महिला को गोली मारने की सूचना मिली थी। घायल महिला बेबी की शिकायत पर पुलिस ने उसके पति राजीव चौधरी और उसके बेटे उत्तम चौधरी के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की थी। लेकिन जांच में शिकायतकर्ता ही आरोपी पाई गई। जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।  

सीओ इंदिरापुरम अभय मिश्र ने बताया कि बेबी का पति नशे का आदी है। इलाज के लिए उसने पति को विजयनगर स्थित विजय बैंसला के नशामुक्ति केन्द्र में भर्ती कराया था। जहां उसकी विजय से मुलाकात हुई और फिर दोनों के बीच संबंध बन गए। सीओ का कहना है कि बेबी का घूकना में डेढ़ करोड़ रुपए कीमत का मकान है और साहिबाबाद में एक दुकान भी उसके नाम पर है। इन दोनों प्रॉपर्टी के पेपर विजय बैंसला के पास थे। जिसको लेकर बेबी के बेटे उत्तम चौधरी ने अपनी मां बेबी, विजय बैंसला और विशाल गुर्जर के खिलाफ नंदग्राम थाने में धोखाधड़ी का केस दर्ज करा रखा है। इस मामले में तीनों आरोपियों ने कोर्ट से अंतरिम जमानत करा ली थी। विजय ने बेबी को पति से अलग करने, उसकी प्रॉपर्टी कब्जाने और उसके पति व बेटे से केस का बदला लेने के लिए बेबी के साथ मिलकर साजिश रची थी।

एसएचओ इंदिरापुरम संजय पाण्डेय ने बताया कि विजय ने बेबी पर हमला करने के लिए विजयनगर में रहने वाले शूटर कपिल से बात की थी। इस काम के लिए उसने कपिल से 50 हजार रुपए तय किए थे। 20 हजार रुपए एडवांस में दे दिए गए थे। योजना के मुताबिक बेबी और आरोपी सुनील को उसने मोहननगर से ऑटो में बैठा दिया था। बेबी जब सब्जी मंडी के सामने ऑटो से उतरी तभी बाइक सवार कपिल ने उसे गोली मार दी और फरार हो गया। कंधे में गोली लगने की वजह से बेबी घायल हो गई थी। बाद में बेबी ने अपने पति और बेटे पर हमला करने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई थी। एसएचओ इंदिरापुरम ने बताया कि घटना के दौरान विजय बैंसला स्कूटी लेकर ऑटो के पीछे चल रहा था। विजय के बताए अनुसार ही सुनील घायल बेबी को लेकर अटलांटा अस्पताल पहुंचा था और उसे भर्ती कराया था। पुलिस का कहना है कि सर्विलांस और सीसीटीवी फुटेज की मदद से आरोपियों की साजिश को बेनकाब कर दिया गया।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें