पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने डब्ल्यूएचओ बिल्डिंग के निर्माण स्थल का किया औचक निरीक्षण

खास ख़बरें

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (वेब वार्ता)। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बुधवार को आईपी स्टेट के महात्मा गांधी मार्ग स्थित डब्ल्यूएचओ बिल्डिंग के निर्माण स्थल का औचक निरीक्षण किया, जहां उन्होंने दिशा-निर्देशों का मामूली उल्लंघन पाया। उन्होंने कहा कि निर्माण एजेंसी को नोटिस जारी कर दो दिन के अंदर सभी दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करने पर जुर्माना लगाने की चेतावनी दी है।

‘एंटी डस्ट’ कैंपेन के तहत हमारी टीमें अब तक 522 निर्माण स्थलों का निरीक्षण चुकी हैं, जिसमें 165 निर्माण स्थालों पर दिशा-निर्देशों का उल्लंघन मिलने पर 53.5 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है। उन्होंने दिल्लीवासियों से अपील करते हुए कहा कि दिल्ली में कहीं पर भी प्रदूषण हो रहा हो, उसकी ग्रीन दिल्ली एप पर शिकायत करें, ताकि तत्काल कार्रवाई की जा सके। पर्यावरण मंत्री ने कहा कि वाहन प्रदूषण को रोकने के लिए 18 अक्टूबर से ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ कैंपेन चलाया जाएगा। कैंपेन को सफल बनाने को लेकर कल पर्यावरण, राजस्व, दिल्ली पुलिस एवं सिविल डिफेंस के उच्च अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।

गोपाल राय ने एंटी डस्ट कैंपेन के तहत आज आईपी स्टेट, महात्मा गांधी मार्ग स्थित डब्ल्यूएचओ बिल्डिंग के निर्माण स्थल का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने सभी निर्माण एजेंसियों के लिए 14 सूत्रीय दिशा-निर्देश जारी की है, जिसका सभी निर्माण साइटों पर शत-प्रतिशत पालन करना अनिवार्य है। डब्ल्यूएचओ बिल्डिंग के निर्माण स्थल पर मानदंडों के अनुसार टीन शेड लगा पाया ग्रया है और एंटी स्मॉग गन भी लगा मिला है। लेकिन निर्माण स्थल पर कुछ रेत खुले में मिला है, जिस पर केवल पानी छिड़का गया है, जबकि इसे नेट ढंकना चाहिए।

इसके अलावा, निर्माण स्थल पर काम कर रहे मजदूरों को मास्क नहीं दिया जा रहा है। इस तरह, निर्माण स्थल पर सरकार के दिशा-निर्देशों का आंशिक उल्लंघन होता पाया गया है। मैंने डीपीसीसी को निर्देश दिया है कि निर्माण एजेंसी को नोटिस जारी किया जाए। साथ ही, चेतावनी दी गई है कि अगर अगले दो दिनो ंमें दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करते हैं, तो उन पर जुर्माने की कार्रवाई की जाएगी।

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली के अंदर गत 7 अक्टूबर से एंटी डस्ट कैंपेन चलाया जा रहा है। कैंपेन का पहला चरण आगामी 29 अक्टूबर तक चलेगा। अभी तक हमारी टीमें दिल्ली के अलग-अलग जगहों पर जाकर निरीक्षण कर रही हैं। हमारी टीमें अब तक 522 से अधिक साइट्स का निरीक्षण कर चुकी हैं। इसमें से 350 से अधिक निर्माण स्थलों पर मानदंडों का पालन होते पाया गया है। कुछ जगहों पर दिशा-निर्देशों का आंशिक उल्लंघन होता पाया गया, लेकिन 165 निर्माण साइटें ऐसी भी पाई गई हैं, जहां पर मानदंडों का उल्लंघन होता पाया गया है। विभाग ने ऐसी निर्माण साइटों पर नियमानुसार कार्रवाई शुरू कर दी है। विभाग की तरफ से अभी तक इन 165 साइट्स पर लगभग 53.5 लाख रुपए तक का जुर्माना लगाया गया है।

गोपाल राय ने एक सवाल के जवाब में कहा कि अब सर्वे करने का नहीं, कार्रवाई का समय है। दिल्ली के सभी जिलों के अंदर हमारी टीमें जा रही हैं और 15 से 20 टीमें प्रतिदिन अलग-अलग साइटों का निरीक्षण कर रही हैं। अभी तक हम 522 से अधिक निर्माण साइटों का दौरा कर चुके हैं। पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि कल मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने घोषणा की थी कि हमें इसमें दिल्ली के लोगों से सहयोग की जरूरत है। दिल्ली सरकार ने ग्रीन दिल्ली एप लांच किया है।

उन्होंने आगे कहा कि मेरी दिल्ली के सभी लोगों से अनुरोध है कि आप अपने मोबाइल में ग्रीन दिल्ली एप को डॉउनलोड कर लीजिए। चाहे सड़क पर धूल प्रदूषण हो या निर्माण साइट पर प्रदूषण हो, चाहे गाड़ी का प्रदूषण हो या फिर चाहे कहीं आग लगी हो, आप अपनी मोबाइल से उसकी फोटो लीजिए और ग्रीन दिल्ली एप के माध्यम से हमें भेजिए, ताकि हम उस पर तत्काल कार्रवाई कर सकें। राय ने कहा कि वाहन प्रदूषण को रोकने के लिए 18 अक्टूबर से ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ कैंपेन की शुरूआत की जा रही है। कल मैंने पर्यावरण, राजस्व, दिल्ली पुलिस एवं सिविल डिफेंस के उच्च अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे, जिसमें हम ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ कैंपने की पूरी रूपरेखा बनाएंगे और 18 अक्टूबर को हम इस कैंपेन को लांच कर देंगे।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें