हरियाणा में बनेगा एक्सपोर्ट प्रोमोशन ब्यूरो: डा. साकेत कुमार

खास ख़बरें

गुरुग्राम में शुरू हुआ दो दिवसीय राज्य स्तरीय वाणिज्य उत्सव

गुरुग्राम, 21 सितंबर (वेब वार्ता)। निर्यात को बढ़ावा देने के उद्देश्य से हरियाणा में एक्सपोर्ट प्रोमोशन ब्यूरो की स्थापना की जाएगी। यह निर्यातकों को संस्थागत सहयोग देगा। उन्होंने निर्यातकों को हरियाणा आने का न्यौता देते हुए कहा कि हरियाणा में उद्यमियों और निर्यातकों को ना केवल इंसेन्टिव दिए जा रहे हैं, बल्कि बिजनेस का माहौल, लिंकेज तथा अन्य सरकारी सुविधाएं भी दी जा रही हैं। यह बात हरियाणा के उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के महानिदेशक डा. साकेत कुमार ने मंगलवार को गुरुग्राम में कही।

वे मंगलवार को यहां सेक्टर-44 स्थित अपैरल हाउस में दो दिवसीय राज्य स्तरीय वाणिज्य उत्सव का उद्घाटन करने पहुंचे थे। यह राज्य स्तरीय वाणिज्य उत्सव प्रदेश के उद्योग एवं वाणिज्य विभाग तथा केंद्र सरकार के वस्त्र मंत्रालय के अधीन कार्यरत अपैरल एक्सपोर्ट प्रोमोशन काउंसिल द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत आयोजित किया जा रहा है। इस अवसर पर डा. साकेत कुमार ने कहा कि प्रदेश के हर जिलें में निर्यात को सुगम बनाने के लिए जिला स्तरीय एक्सपोर्ट प्रोमोशन कमेटी (डीएलईपीसी) बनाई गई है। इसी प्रकार सभी प्रकार के टे्रड संबंधी विषयों जैसे लॉजिस्टिक्स, कृषि संबंधी निर्यात और सर्विस एक्सपोट्र्स की समीक्षा के लिए राज्य स्तर पर भी टे,ड प्रोमोशन कमेटी बनाई गई है। उन्होंने एक प्रेजेंटेशन के माध्यम से हरियाणा में उद्यमियों तथा निर्यातकों को दी जा रही सुविधाओं व इंसेंटिव के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि वर्ष 2020-21 में 174572 करोड़ की एक्सपोर्ट वैल्यू के साथ हरियाणा तेजी से बढ़ती इकोनोमी है। हरियाणा से यूएसए, साउदी अरेबिया, यूके, जर्मनी, नेपाल आदि को एक्सपोर्ट अर्थात निर्यात किया जा रहा है।

निर्यातकों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का मुख्य अतिथि ने किया अवलोकन

प्रदेश के मुख्य निर्यातक जिलों में गुरुग्राम, पानीपत, करनाल, सोनीपत और फरीदाबाद शामिल हैं। इन जिलों से मुख्य रूप से चावल, रेडीमेड गारमेंट, हैंडलूम व हैंडिक्राफट, ऑटोमोबाइल व उसके कंपोनेंट, मैटल वेयर, मशीनरी व पुर्जे तथा दवा व फामास्यूटिकल प्रोडक्ट निर्यात किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का वीजन भारत को एक निर्यात उन्मुखी इकोनोमी बनाना है।

उन्होंने कहा कि जब कोरोना का प्रकोप शुरू हुआ तो उन्होंने प्रदेश के चिकित्सकों तथा मेडिकल स्टाफ के लिए पीपीई किट और एन95 मास्क खरीदना चाहा तो उस समय गुजरात की केवल एक फर्म पीपीई किट तथा मुंबई की एक फर्म एन 95 मास्क उपलब्ध करवाने को तैयार थी। उस समय कहा गया कि पीपीई किट तथा मास्क आयात करने पड़ेंगे, लेकिन अक्टूबर में ही अपैरल एक्सपोर्ट प्रोमोशन काउंसिल के चेयरमैन पदमश्री डा. ए. साक्थिवेल का ब्यान आया कि हम अपनी जरूरत को पूरा करते हुए इन उत्पादों के निर्यात के लिए तैयार हैं।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें