सरकार के फरमान का शिक्षकों ने जताया विरोध

खास ख़बरें

मीरजापुर, 08 सितंबर। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के तत्वावधान में बुधवार को शिक्षकों ने काली पट्टी बांधकर सरकार के तुगलकी फरमान का विरोध जताया। शिक्षिकों ने विद्यालय समय 8 से 4:30 तक शिक्षण कार्य का विरोध किया, जबकि शिक्षा संहिता में नियम गर्मी में 4:35 घंटे और शीत ऋतु में 5:20 घंटे तक समय निर्धारित है। शिक्षक संघ चेतनारायण गुट के तत्वावधान में नगर और ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों में शिक्षकों ने जबरदस्त उत्साह के साथ कार्य बहिष्कार किया। जिलाध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने कहा कि सरकार और विभाग की घोर लापरवाही है, जो शिक्षक समाज को कतई स्वीकार नहीं है। कार्य समय संशोधन तक संघर्ष चलता रहेगा। 20 सितंबर को जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय का शिक्षक घेराव करेंगे। बीएलजे इंटर कालेज, श्रीशिव इंटर कॉलेज, बसंत इंटर कालेज, एएस जुबली कालेज, आर्य कन्या पाठशाला इंटर कालेज, गोविदाश्रम इंटर कालेज पैडापुर, जनता इंटर कालेज बरेवा, माधव विद्या मंदिर इंटर कालेज पुरुषोत्तमपुर चुनार, आदर्श इंटर कालेज विसुंदरपुर, राजस्थान इंटर कालेज में कार्य बहिष्कार किया गया। राहुल सिंह, अभिषेक सिंह, मनोज सिंह, संतोष सिंह, आशुतोष त्रिपाठी, उपेंद्र सिंह, दिनेश, दीपक, रीता वर्मा, अंजू पाल, विजय दुबे, पवन सिंह, कोषाध्यक्ष पंकज श्रीवास्तव, पंकज, प्रशांत वर्मा, विनोद मिश्रा, मुखराम, जिलामंत्री रविद्र नारायण सिंह रहे। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ शर्मा गुट के तत्वावधान में शिक्षकों ने काली पट्टी बांधकर सरकार के तुगलकी फरमान का विरोध जताया। आर्य कन्या पाठशाला इंटर कालेज में रीता वर्मा सहित कई विद्यालयों में शिक्षिकों ने विद्यालय समय 8 से 4:30 तक शिक्षण कार्य का विरोध जताया। जिलाध्यक्ष सत्यभूषण सिंह ने प्रदेश सरकार शिक्षकों को बंधुआ मजदूर बनाकर माध्यमिक शिक्षा अधिनियम द्वारा शिक्षा संहिता में स्थापित व्यवस्था को अपने शासनादेश द्वारा खंडित करने का कुत्सित प्रयास कर रही है।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें