मेघाल्या के राज्यपाल ने सिखों का गैर कानूनी तरीके से बर्बाद न होने देने का भरोसा दिलाया

खास ख़बरें

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (वेब वार्ता)। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान सरदार मनजिन्दर सिंह सिरसा के नेतृत्व में शिलांग पहुंचे अकाली दल के उच्च ताकती वफद की तरफ से मेघाल्या में पंजाबी गली में से सिख परिवारों के उजाड़े के मामले पर राज्य के राजापाल सत्या पाल मलिक के साथ मुलाकात की गई। इस मीटिंग दौरान सरदार ने राज्यपाल मलिक को इस सारे मामले बारे जानकारी दी और इस मामले में अदालत की तरफ से लगाई स्टे और सुनाए फ़ैसले से भी अवगत करवाया। उन्होंने बताया कि अदालत ने स्पष्ट कहा है कि इन सिख परिवारों को यहां से कोई नहीं उजाड़ सकता।

राज्यपाल सत्या पाल मलिक ने वफद की बात ध्यान के साथ श्रवण उपरांत भरोसा दिलाया कि अदालत का फैसला इन-बिन लागू किया जाएगा और गैर कानूनी तरीके से सिखों का बर्बाद नहीं होने दिया जाएगा। मीटिंग बाद में श्री सिरसा ने बताया कि राज्यपाल ने इस मामलो में मुख्य मंत्री कोनारड संगमा के साथ भी बातचीत की है। उन्होंने बताया कि राज्यपाल ने यह भी कहा है कि मुख्य मंत्री 28 अक्तूबर के बाद हमारे के साथ मुलाकात भी करेंगे और सारा मामला भी समझेंगे।

उन्होंने बताया कि राज्यपाल ने यह भी कहा है कि जब ज़मीन यहां के मुख्य मंत्री ने इन को दी है तो यह वापस नहीं के लिए जा सकती। उन्होंने कहा कि जब तक वह मेघाल्या के राज्यपाल हैं, तब तक वह सूबो में कोई भी फ़ैसला गैर कानूनी तरीको साथ नहीं होने देंगे। श्री सिरसा ने बताया कि सिलांग के सिखों के मसले दिल्ली कमेटी देख रही थी और यह परिवार जहां था, वहां ही रहेंगे, इन को कोई उजाड़ नहीं सकता। उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले का पक्का हल कोर्ट के द्वारा ही निकलेगा। उन्होंने कहा कि अदालत ने यह भी तय किया हुआ है कि यह मसला कैसे हल होगा।

उन्होंने कहा कि राज्यपाल के साथ मुलाकात के बाद हमें पकी तसल्ली है कि अब सिखों को उजाडऩे का कोई भी फैसला सरकार लागू नहीं करेगी। उन्होंने देश और दुनिया में बैठे सिख भाईचारे को भरोसा दुआया कि दिल्ली कमेटी इन 350 सिख परिवारों के साथ डट कर खड़ी है और इन का कोई नुक्सान नहीं होने देगी।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें