महापौर ने ’प्राइस सॉफ्टवेयर’ का किया शुभारंभ

खास ख़बरें

नई दिल्ली, 08 सितंबर (वेब वार्ता)। दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के महापौर मुकेश सुर्यान ने आयुक्त ज्ञानेश भारती की उपस्थिति में सिविक सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में प्राइस (प्रोजेक्ट इंफोरमेशन एंड कोस्ट एस्टिमेशन) सॉफ्टवेयर का शुभारंभ किया। इस अवसर पर महापौर ने बताया कि दक्षिणी निगम दिल्ली का पहला स्थानीय निकाय बना जहां इस सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जायेगा। इस सॉफ्टवेयर के द्वारा विभिन्न सिविल व इलैक्ट्रिकल कार्यों के लागत अनुमान व स्वीकृति और टैंडर प्रक्रिया संबंधित अन्य कार्य किये जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्राइस सॉफ्टवेयर कार्य प्रणाली में पारदर्शिता व कुशलता आएगी और बिना किसी विलंब के ऑनलाइन ही सिविल व इलैक्ट्रिकल कार्यों की टैंडर प्रक्रिया से लेकर बिल भुगतान का कार्य हो जायेगा। इस अवसर पर एन.आई.सी. की डी.डी.जी, रचना श्रीवास्तव, उप-महापौर पवन शर्मा, स्थायी समिति के अध्यक्ष कर्नल बी.के ओबराॅय, नेता सदन इंद्रजीत सहरावत, स्थायी समिति की उपाध्यक्षा पूनम भाटी, अतिरिक्त आयुक्त रमेश वर्मा, अतिरिक्त आयुक्त ए.ए. ताजिर, प्रमुख अभियंता पी.सी.मीणा, निदेशक आई.टी भूपेश चैधरी व अन्य पार्षदगण तथा निगम अधिकारी उपस्थित थें। साथ ही एन.आई.सी. की केरला टीम भी वर्चुअल माध्यम से इस कार्यक्रम से जुड़ी। इस मौके पर आयुक्त ज्ञानेश भारती ने कहा कि पिछले एक वर्ष से हमारा यह प्रयास रहा कि इस सॉफ्टवेयर को जल्द से जल्द लागू किया जाए। एन.आई.सी के सहयोग से दक्षिणी निगम इस सॉफ्टवेयर का प्रयोग करके विभिन्न अभियांत्रिकी कार्यों की टैंडर प्रक्रिया से संबंधित कार्यों को शीघ्रता से निपटा सकेगा। प्रथम चरण में कार्यों की लागत अनुमान व स्वीकृति दी जायेगी। दूसरे चरण में कार्यों को सौपने व टैंडर प्रक्रिया की जायेगी। तीसरे चरण में प्रोजैक्ट व कार्यों का प्रबंधन व निरीक्षण और बिल भुगतान आदि किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि अभियांत्रिक विभाग के अभियंता व अन्य अधिकारियों को इस सॉफ्टवेयर से संबंधित प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इस सॉफ्टवेयर के ट्रायल के दौरन 521 लागत अनुमान बनाये गए और 487 को प्राशासनिक स्वीकृति तथा 435 को तकनीकि स्वीकृति प्रदान की गई।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें