भारतीय जनता पार्टी ने सत्ता को बनाया सेवा का माध्यम : स्मृति ईरानी

खास ख़बरें

नई दिल्ली, 08 सितंबर (वेब वार्ता)। प्रदेश महिला मोर्चा कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने महिला सशक्तिकरण पर जोर देते हुए कहा कि यहां पर बैठी महिलाओं में शौर्य और संवेदना दिखाई देती है। यहां बैठी महिलाएं 30 हज़ार निष्ठावान कार्यकर्ता के बराबर है और यह हर एक महिला 10 निष्ठावान कार्यकर्ता को जोड़ती है तो 3 लाख महिलाएं जुटाने की ताकत रखती है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार के हर एक मंत्रालय में महिलाओं के उत्थान से संबंधित कोई न कोई योजना चल रही है। इसरो जैसे क्षेत्र में भी महिलाओं ने जबरदस्त प्रर्दशन किया। टैक्सटाइल के क्षेत्र से लगभग 70 प्रतिशत महिलाएं जुड़ी हुई हैं। बैठक में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता भी मौजूद थे।

श्रीमती ईरानी ने प्रशिक्षण पर बल देते हुए कहा कि रास्ते आसान नहीं है, लेकिन तैयारी अच्छी हो तो उतीर्ण होने से कोई नहीं रोक सकता। प्रोफेशनल महिलाओं को पार्टी से जोड़ने पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि महिलाओं को अध्ययन और नए सदस्यों को अधिक से अधिक जोड़ने पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज देश में 8, 800 करोड़ से ज्यादा पैसा मातृत्व योजना के तहत महिलाओं को दिया जा चुका है। आयुष्मान योजना के तहत आज एक करोड़ से अधिक ग्रामीण महिलाओं को स्तन कैंसर का ईलाज किया जा चुका है। आज समाज में सैनेटरी पैड की बात करने से लोग बचते हैं लेकिन प्रधानमंत्री ने स्वयं इसकी चर्चा की है और 10 करोड़ शौचालय बनाकर महिलाओं की सबसे मूलभूत जरुरत को पूरा कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के लोगों का ध्यान केंद्रित किया जिससे 45 प्रतिशत से अधिक ग्रामीण इलाकों में महिलाओं के साथ होने वाले बलात्कार पर रोक लगी।

श्रीमती ईरानी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने सत्ता को सेवा का माध्यम बताते हुए कहा कि 22 करोड़ महिलाओं के बैंक में खाते खुलवाएं और 17 करोड़ 7 लाख महिलाओं को मुद्रा योजना के तहत ऋण दिलवाए जिससे उन्होंने अपना कोई रोजगार शुरु किया। दो करोड़ से अधिक महिलाओं को दिशा योजना के तहत जोड़ा गया। उन्होंने महिलाओं को परामर्श देते हुए कहा कि संवाद को सरलता से काम करने पर सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलती है। जिन लोगों पर संगठन का दायित्व आज नहीं है, उनलोगों को हम कितना सम्मान देते हैं हमें इसका भी आकलन करना चाहिए।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि दिल्ली में हमारी पहली चुनौती निगम चुनाव है। इसके लिए 50 प्रतिशत सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित है और महिला मोर्चा को इस चुनौती को सफलतापूर्वक निभाना होगा ताकि निगम चुनावों में भाजपा को विजय मिल सके। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में जितनी भी जनहित की योजनाएं शुरु की उसका सार्वाधिक लाभ महिलाओं को मिला है। नरेन्द्र मोदी की सोच है कि महिलाओं के विकास से परिवार, समाज और देश का विकास तेजी से संभव हो पाया है। जनधन योजना, उज्जवला योजना, आवास योजना, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं और पोषण योजनाओं का सीधा लाभ महिलावर्ग उठा रहीं हैं।

श्री गुप्ता ने कहा कि केंद्र में भाजपा की सरकार आने के बाद भ्रष्टाचार को जड़ से मिटा दिया है। कांग्रेस के समय में अधिकारिक तौर पर कहा जाता था कि सरकार जो एक रुपया खर्च करती है, उसमें से केवल 14 पैसे ही लाभान्वित तक पहुंच पाते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी दिल्ली में चुनौती केजरीवाल की संवेदनहीन सरकार से है। केंद्र में मोदी की सरकार ने 11महिलाओं को मंत्री बनाया है तो वही दिल्ली में एक भी महिला मंत्री नहीं। इस तुलना को हमें समाज तक पहुंचाना चाहिए ताकि लोगों को केंद्र और दिल्ली सरकार की कथनी और करनी का अंतर पता चल सके। आज हुए महिला मोर्चा की कार्यकारणी में प्रदेश महामंत्री हर्ष मल्होत्रा, महिला मोर्चा की राष्ट्रीय महामंत्री दीप्ती रावत, राष्ट्रीय मोर्चा उपाध्यक्ष रेखा गुप्ता, प्रदेश महिला मोर्चा अध्यक्ष योगिता सिंह, प्रदेश महिला मोर्चा महामंत्री डॉक्टर मोनिका पंत सहित अन्य महिला मोर्चा की पदाधिकारी मौजूद थीं।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें