प्रोजेक्ट्स निर्धारित टाइम लाइन से पीछे चल रहे हैं

खास ख़बरें

लखनऊ, 09 सितंबर। मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने जनपद वाराणसी के विकास कार्यों की गहन समीक्षा की। बैठक में अपर मुख्य सचिव औद्योगिक विकास, अपर मुख्य सचिव एमएसएमई, अपर मुख्य सचिव कार्यक्रम क्रियान्वयन, प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग सहित नगर विकास, आवास, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, उ.प्र. पावर कारपोरेशन, गृह, पर्यटन, वित्त, जल निगम एवं अन्य सम्बन्धित अधिकारियों तथा वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से जिलाधिकारी वाराणसी द्वारा प्रतिभाग किया गया।

अपने सम्बोधन में मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि जो प्रोजेक्ट्स निर्धारित टाइम लाइन से पीछे चल रहे हैं, विलम्ब के लिए दोषी अधिकारियों का उत्तरदायित्व निर्धारित कर उनके विरूद्ध कार्यवाही की जाये। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि निर्माणाधीन परियोजनाओं की मासिक टाइमलाइन बनायी जाये तथा तद्नुसार प्रगति की समीक्षा की जाये। उन्होंने वाराणसी के विभागीय अधिकारियों से अपेक्षा की कि वह परियोजनावार प्रगति की दैनिक समीक्षा करें तथा फास्ट ट्रैक पर सभी परियोजनाओं को पूरा करें।

इससे पूर्व विभागवार परियोजनाओं की प्रगति का प्रस्तुतीकरण करते हुए जिलाधिकारी वाराणसी कौशल राज शर्मा ने बताया कि कतिपय परियोजनाओं को छोड़कर सभी परियोजनायें निर्धारित टाइमलाइन के अनुसार से चल रही हैं। निर्माणाधीन सभी परियोजनाओं का कार्य द्रुत गति से चल रहा है। घाघरा पुल-वाराणसी डिवीजन फोरलेन चौड़ीकरण, सुल्तानपुर-वाराणसी फोर लेन चौड़ीकरण, वाराणसी-गोरखपुर फोर लेन चौड़ीकरण के पूर्ण होने की संभावित तिथि 30 सितम्बर, 2021 है। वाराणसी रिंग रोड फेज-2 पैकेज-1 का कार्य विलम्ब से चल रहा है, जिसके माह फरवरी, 2022 तक पूरा होने की संभावना है।

आईयूसीटीई बिल्डिंग बीएचयू, जोधपुर कॉलोनी के फेज-1 व फेज-2, मदन मोहन मालवीय कैंसर सेन्टर बीएचयू में डॉक्टर्स हॉस्टल, नर्स हॉस्टल व धर्मशाला का कार्य इसी माह पूरा होना संभावित है। गर्ल्स हॉस्टल बीएचयू का निर्माण पूरा किया जा चुका है। धनराज गिरी ब्वॉयज हॉस्टल विद डायनिंग ब्लॉक माह अक्टूबर, 2021 में, विवेकानन्द हॉस्टल के पीछे फैकल्टी के लिए अपार्टमेन्ट माह दिसम्बर, 2021 तक पूरा होना संभावित है। नगर विकास विभाग के अन्तर्गत मोहन कटारा एवं कोनिया घाट क्षेत्र में सीवर लाइन के लिए टेण्डर प्रक्रिया प्रचलित है। ट्रांस वरूणा क्षेत्र में 25782 के सापेक्ष 15694 सीवर कनेक्शन दिये गये हैं तथा परियोजना के पूरा होने की संभावित तिथि माह दिसम्बर, 2021 है। रमना में 50 एमएलडी एसटीपी निर्माण का 97 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है। नगर विकास विभाग की कुल 22 परियोजनाएं चल रही हैं, जिनमें डॉ0 सम्पूर्णानन्द स्पोर्ट्स स्टेडियम के विकास का कार्य टेण्डर प्रक्रिया में है। इसी प्रकार सिस वरूणा क्षेत्र में जलापूर्ति के अपग्रेडेशन का कार्य भी टेण्डर प्रक्रिया में है।

इसके अतिरिक्त सिस वरूणा क्षेत्र में सीवरेज डिस्ट्रिक-3 में क्षेत्र को सीवर नेटवर्क के आच्छादित करने की परियोजना, ट्रांस वरूणा क्षेत्र में अतिरिक्त ब्रान्च सीवर लाइन बिछाने की परियोजना, मुख्यमंत्री अल्प विकसित व मलिन बस्ती विकास योजना के 31 कार्य तथा मुख्यमंत्री अल्प विकसित व मलिन बस्ती विकास योजना के अन्तर्गत जल निकासी एवं इन्टरलाकिंग के 15 कार्य स्वीकृति की प्रक्रिया में है। लोक निर्माण विभाग की 09 परियोजनाएं चल रही हैं, जिनमें लहरतारा से फुलवरिया वरूणा नदी पर पुल, कोनिया-सलारपुर मार्ग पर वरूणा नदी पर पुल निर्माण में विलम्ब हुआ है तथा भौतिक प्रगति क्रमशः 81 प्रतिशत एवं 92 प्रतिशत है। इसी प्रकार बाबतपुर-कपसेठी-भदोही मार्ग पर वरूणा नदी पर दो लेन सेतु, शिवपुर लहरतारा (फुलवरिया) मार्ग पर चार लेन सड़क निर्माण में भी विलम्ब हुआ है तथा भौतिक प्रगति क्रमशः 76.47 प्रतिशत व 75 प्रतिशत है। कैण्ट से पड़ाव रोड लम्बाई 5.94 किमी लागत 17.11 करोड़ रुपये का 80 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है।

इसके अलावा बाबतपुर रेलवे स्टेशन के पास 02 लेन आरओबी निर्माण, मोहन सराय से कैन्ट चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण, वाराणसी भदोही गोपीगंज मार्ग में चार लेन चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण कार्य, लहरतारा से बीएचयू चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण कार्य, सर्किट हाउस एनेक्सी भवन चार मंजिला, कैथी में लोक निर्माण विभाग परिसर में नये निरीक्षण भवन का निर्माण तथा कैथी में गंगा गोमती संगम घाट तक 02 लेन सीसी रोड का नवनिर्माण के प्रस्तावित परियोजनाएं स्वीकृति, अनुमोदन एवं डीपीआर निर्माण की प्रक्रिया में है।

आवास एवं शहरी नियोजन विभाग के अन्तर्गत सर्किट हाउस कैम्पस में अण्डरग्राउण्ड पार्किंग तथा 08 कुण्डों के अनुरक्षण एवं सुन्दरीकरण के कार्य की प्रगति क्रमशः 85 एवं 78 प्रतिशत है। ग्राम अटेसुआ में प्रस्तावित प्रधानमंत्री आवास योजना, ग्राम कुरूहुआ में प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत 250 भवनों का वाह्य विकास कार्य, कमिशनरी कम्पाउण्ड परिसर में एकीकृत मण्डलीय कार्यालय का निर्माण कार्य तथा वाराणसी शहर के अन्तर्गत सड़कों के सुन्दरीकरण, वाइडनिंग एवं जंक्शन इम्प्रूवमेन्ट के विभिन्न कार्य स्वीकृति, अनुमोदन एवं डीपीआर निर्माण की प्रक्रिया में है।

पर्यटन एवं धर्मार्थ विभाग के अन्तर्गत सीर गोवर्धन का पर्यटन विकास, संगम घाट का पर्यटन विकास तथा श्री काशी विश्वनाथ मन्दिर के पर्यटन विकास के कार्य तेजी से चल रहे हैं। कैथी में मारकण्डेय महादेव घाट से संगम घाट तक सम्पर्क मार्ग निर्माण तथा ग्राम उंदी तहसील पिण्डरा में प्रस्तावित इको पार्क व वेटलैण्ड्स डेवलपमेन्ट्स के कार्य स्वीकृति की प्रक्रिया में है।

विद्युत विभाग के अन्तर्गत अलाईपुर में 133/33 केवी सबस्टेशन का निर्माण, आईपीडीएस वर्क फेज-3 के अन्तर्गत 33/11 सबस्टेशन नगवा का निर्माण प्रगति पर है तथा आईपीडीएस फेज-3 के अन्तर्गत अवशेष शहर के विद्युत तारों को भूमिगत केबल में परिवर्तित करने हेतु 4827 करोड़ रुपये का प्रस्ताव स्वीकृति हेतु ऊर्जा मंत्रालय भारत सरकार को भेजा गया है। गृह विभाग के अन्तर्गत पीएसी भुल्लनपुर में 200 व्यक्तियों के लिए बैरक का निर्माण, पीएसी रामनगर में 200 व्यक्तियों के लिए बैरक का निर्माण तथा पुलिस लाइन में ट्रांजिट हॉस्टल का निर्माण प्रगति पर है। व्यावसायिक शिक्षा के अन्तर्गत महगांव में आईटीआई का निर्माण भी प्रगति है तथा भौतिक प्रगति 60 प्रतिशत है, इसके माह दिसम्बर, 2021 में पूरा होना संभावित है। प्राविधिक शिक्षा के अन्तर्गत पॉलीटेक्निक के निर्माण की भौतिक प्रगति 62 प्रतिशत है।

तेल एवं प्राकृतिक गैस विभाग की वाराणसी अर्बन गैस डिस्ट्रिब्यूशन प्रोजेक्ट लागत 345 करोड़ संचालित है तथा माह अगस्त, 2021 तक 87.16 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है। यह परियोजना माह मार्च, 2023 तक पूरी होगी। रसायन, पेट्रोलियम एवं उर्वरक मंत्रालय द्वारा स्किलिंग एण्ड टेक्निकल सपोर्ट के लिए सीपेट सेन्टर लागत 40.1 करोड़ रुपये का निर्माण किया जा रहा है, जिसकी माह अगस्त, 2021 तक की प्रगति 35 प्रतिशत है। यह परियोजना माह जून, 2022 तक पूरी होगी।

राजस्व विभाग के अन्तर्गत 08 आवासों की मरम्मत एवं रंगाई-पुताई का कार्य, अनावासीय एवं आवासीय राजस्व भवनों का अनुरक्षण तथा कलेक्ट्रेट परिसर में राजस्व अभिलेखागार के नये भवन का निर्माण स्वीकृति की प्रक्रिया में है। कृषि विपणन के अन्तर्गत कररिवयांव इंडस्ट्रियल क्षेत्र में पैक हाउस का निर्माण लागत 15.78 करोड़ रुपये की प्रगति 40 प्रतिशत है। औद्योगिक क्षेत्र एग्रो पार्क कररिवयांव में मूलभूत सुविधाओं का विकास लागत करीब 27 करोड़ का कार्य यूपीसीडा द्वारा कराया जाना प्रस्तावित है जोकि स्वीकृति की प्रक्रिया में है। इसी प्रकार औद्योगिक क्षेत्र चांदपुर, महेशपुर के आन्तरिक मार्गों की पटरी पर इन्टरलॉकिंग लगाने आदि के कार्य लागत करीब 05 करोड़ रुपये स्वीकृति की प्रक्रिया में है। जलशक्ति विभाग की वाराणसी शहर के विभिन्न स्थानों पर स्थित तालाबों /कुण्डों के संरक्षण एवं नवीनीकरण का कार्य लागत करीब 33 करोड़ रुपये के प्रस्ताव स्वीकृति हेतु डायरेक्टर जनरल सेशनल मिशन फार क्लीन गंगा, नई दिल्ली को भेजा गया है।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें