दिल्ली में पराली नष्ट करने का काम सिर्फ कागजों पर : बिधूड़ी

खास ख़बरें

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (वेब वार्ता)। दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने दिल्ली सरकार के पराली गलाकर खाद बनाने के दावे को पूरी तरह झूठ बताया है। उन्होंने कहा है कि दिल्ली सरकार सिर्फ प्रचार पाने के लिए यह झूठा दावा कर रही है कि खेतों में दवाई का छिड़काव करके पराली को नष्ट किया जा रहा है। जिस जगह दिल्ली के पर्यावरण मंत्री ने पराली नष्ट करने का कार्यक्रम आयोजित किया, वहां भी इसका कोई छिड़काव नहीं किया गया। न ही किसानों को कोई दवाई दी गई है और न ही सरकार इसका कहीं छिड़काव करा रही है। दिल्ली सरकार इस कागजी योजना से किसानों के साथ क्रूर मजाक कर रही है।

बिधूड़ी ने दिल्ली विधानसभा में भाजपा के मुख्य सचेतक और विधायक अजय महावर और दिल्ली प्रदेश भाजपा किसान मोर्चा के अध्यक्ष विनोद सहरावत के साथ उन गांवों का दौरा किया जहां पर्यावरण मंत्री पराली नष्ट करने की दवा छिड़कने के काम का उद्घाटन करके आए हैं। बिधूड़ी ने बताया कि हम अलीपुर ब्लाक के गांव फतहपुर जट, रमजानपुर और आसपास के करीब दर्जनों गांवों में गए। किसी गांव में पराली नष्ट करने के छिड़काव का कोई काम नहीं किया गया। यहां तक कि जहां मंत्री गोपाल राय दवाई छिड़कने के काम की शुरुआत कर दावा करते हैं, वहां भी एक छोटे से प्लाट में स्प्रिंकलर से दवा छिड़कने की नौटंकी की गई और इसके अलावा किसी भी खेत में कोई छिड़काव नहीं हुआ। दिल्ली सरकार यह दावा कर रही है कि वह खुद खेतों में छिड़काव करा रही है और ऐसी नसीहत दूसरे राज्यों को भी दे रही है लेकिन सच्चाई यह है कि दिल्ली में भी किसानों से कहा जा रहा है कि वे जाकर पूसा से दवाई लाएं और उसका छिड़काव करें।

बिधूड़ी ने कहा कि इन गांवों के लोगों ने ऑन रिकॉर्ड यह बात कही है कि आम आदमी पार्टी सरकार किसानों को बेवकूफ बना रही है और यह योजना सिर्फ कागजों में चल रही है। किसानों ने बताया कि अभी तक बहुत-से किसानों के खेतों में पानी भरा हुआ है। बारिश के बाद किसान पानी की निकासी की लगातार मांग कर रहे हैं लेकिन सरकार की तरफ से इसका कोई इंतजाम नहीं किया गया। खेतों में पानी भरा होने के कारण उनकी फसल पूरी तरह तबाह हो चुकी है और सरकार ने मुआवजे का ऐलान करना तो दूर, उनके साथ यह क्रूर मजाक किया है कि उनके खेतों में पराली नष्ट की जा रही है। जिन खेतों में पानी नहीं भरा हुआ, वहां भी किसानों ने किसी छिड़काव से इनकार किया है।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि दिल्ली सरकार की तरफ से तो किसानों को पराली नष्ट करने के लिए नोटिस दिए जा रहे हैं और अब तक इस इलाके में किसानों पर 5 से 7 लाख रुपए का जुर्माना भी कर दिया गया है। बिधूड़ी ने दिल्ली सरकार को चुनौती दी है कि वे मेरे साथ इन गांवों में चलें और मीडिया को दिखाएं कि कहां पराली नष्ट करने की दवा का छिड़काव किया गया है। दिल्ली सरकार की चोरी रंगे हाथों पकड़ी गई है और सरकार को अगर शर्मिन्दगी हो तो वह दिल्ली के किसानों से इसके लिए माफी मांगे।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें