छठ पूजा के आयोजन के लिए पूर्वांचल वासियों की आस्था के साथ दौहरा व्यवहार क्यों अपना रहे हैं केजरीवाल : चौ. अनिल कुमार

खास ख़बरें

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (वेब वार्ता)। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आज छठ पूजा की इजाजत देने की मांग को लेकर दिल्ली के अरविन्द केजरीवाल के मुख्यमंत्री निवास सिविल लाईन्स पर जोरदार प्रदर्शन किया, क्योंकि दिल्ली की अरविन्द सरकार छठ पूजा मनाने पर पांबदी लगाने का आदेश जारी ना करके पूर्वांचलवासियां की आस्था से खिलवाड़ कर रहे है जबकि पूर्वाचंलवासियों के लिये छठ सबसे बड़ा आस्था का महापर्व है। दिल्ली में छठ पूजा पर प्रतिबंध लगाने वाले आदेश को निरस्त करने के संबध में चौ. अनिल कुमार ने दिल्ली के उपराज्यपाल को पत्र भी लिखा।

प्रदर्शनकारियों में प्रदेश अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार के साथ पूर्व केन्द्रीय मंत्री जगदीश टाईटलर, पूर्व सांसद रमेश कुमार, दिल्ली प्रदेश पूर्वांचल काँग्रेस के चेयरमैन शिवजी सिंह, संयोजक प्रदीप पाडेय, साई अनामिका झा, महासचिव तपन कुमार झा,के अतिरिक्त पूर्व मंत्री डॉ. नरेन्द्र नाथ, पूर्व विधायक जय किशन, कुंवर करण सिंह, हरी शंकर गुप्ता, और अमरीश गौतम, प्रदेश उपाध्यक्ष मुदित अग्रवाल, प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष अमृता धवन, दिल्ली प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष रणविजय सिंह लोचव, जिला अध्यक्ष हरी किशन जिंदल, परवेज़ आलम सहित पूर्वांचल नेता आर के मिश्रा, बजरंगी प्रसाद, एस के पांडेय, आर के पांडेय, विनीति ठाकुर, सुनील झा, डी के मिश्रा, प्रणव झा, विनोद दुबे, रूबी सिंह, इन्द्रावती सिंह,, भारत चौबे, अजय सिंह, दिलीप सिंह, आर के निरीला, बनवारी उपाध्याय, सुरेश त्रिपाठी शामिल थे। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हाथों नारे लिखी तख्तियां लेकर ‘‘छठ पूजा पर प्रतिबंद, रद्द करो केजरीवाल’’, ‘‘पूर्वाचंलवासियों का अन्याय, नही सहेंगे-नही सहेंगे’’, ‘‘छठ मैया का अपमान नही सहेगा हिन्दुस्तान’’ आदि नारे लगा रहे थे।

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि पूर्वाचंलवासियों की भावनाओं की आड़ में राजनीति कर रहे अरविन्द केजरीवाल और भाजपा छठ पूजन करने के लिए पूर्वाचंल वालों की आस्था को ध्यान में रखकर कोई कदम नही उठा रहे है। उन्होंने कहा कि दिल्ली के मंत्री गोपाल राय का यह वक्तव्य कि अगर केन्द्र सरकार छठ पर निर्देश दे तो दिल्ली में छठ पर छूठ संभव होगी, पूरी तरह से दिल्लीवासियों को गुमराह करने वाला है, क्योंकि केन्द्र सरकार द्वारा सभी राज्यों को दीपावली और छठ मनाने के निर्देश पहले ही जारी किए जा चुके है फिर अरविन्द केजरीवाल छठ पूजा का राजनीतिकरण करने की कोशिश क्यों कर रहे है।

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली सरकार ने जब शराब के ठेके, शादियां, बस यातायात, साप्ताहिक बाजार, सिनेमा हॉल को कोविड प्रोटोकॉल के तहत खोलने की इजाजत देने के साथ-साथ फाइव-स्टार होटलों के स्वीमिंग पूल को भी खोल दिया गया है तो फिर दिल्ली सरकार छठ पूजा के आयोजन पर पाबंदी क्यों लगा रही है। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल वासियों अरविन्द केजरीवाल जी आस्था के इस महापर्व पर पाबंदी लगाकर लाखों पूर्वांचल वासियों की आस्था पर चोट पहुँचा रहे है। उन्होंने कहा कि भाजपा के साथ मिलकर आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली में भाजपा की जन-आर्शीवाद यात्रा और रथ यात्रा को उस वक्त सुचारु रुप से चलने दिया गया, जब कोविड का अत्यधिक प्रकोप था।

चौ. अनिल कुमार ने कहा दिल्ली में पूर्वाचंल वासियों की संख्या काफी मात्रा में है और दिल्ली में छठ पर्व पर पूर्वाचंली संस्कृति को दिल्ली में जीवंत करते दिखाई पड़ते लोगों की याद केजरीवाल को केवल चुनावी मौके पर ही आती है। जबकि आजकल केजरीवाल पंजाब के लोगों को भ्रमित करने वाले भाषण दे रहे है।

चौ. अनिल कुमार ने मांग की कि पूर्वांचलियों की आस्था को ध्यान में रखते हुए दिल्ली सरकार अपने छठ पर्व पर पाबंदी के फैसले को निरस्त करें और कोविड-19 की गाइडलाइन के तहत छठ पर्व मनाने की इजाजत दें ताकि सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए पूर्वांचली लोग छठ माता की पूजा अर्चना कर सके। उन्होंने कहा घाटों पर दिल्ली सरकार को छठ आयोजन के लिए बेहतर प्रबंध करके पूर्वांचल के लोगों की परेशानी को कम करना चाहिए।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें