कोरोना से लड़ाई में चैंपियन बना हिमाचल : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

खास ख़बरें

राष्ट्रपति कोविंद ने हिमाचल प्रदेश विधानसभा के विशेष सत्र को किया संबोधित

शिमला, 17 सितंबर (वेब वार्ता)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हिमाचल विधानसभा के विशेष सत्र को संबोधित करते हुए सशस्त्र बलों में हिमाचल प्रदेश के लोगों के योगदान की सराहना की। इस दौरान राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि वह देश की सेवा करने वाले ‘राज्य के बहादुर सैनिकों को सलाम करते हैं।’ उन्होंने कहा कि मेजर सोमनाथ शर्मा परमवीर चक्र पाने वाले राज्य के पहले जवान थे। दरअसल राष्ट्रपति ने यह बात हिमाचल प्रदेश को राज्य का दर्जा दिए जाने की स्वर्ण जयंती के मौके पर बुलाए गए विधानसभा के विशेष सत्र में शुक्रवार को कही है। यह स्वर्ण जयंती 25 जनवरी 2021 को थी, लेकिन कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर तब यह विशेष सत्र स्थगित कर दिया गया था। राज्य में पूरे वर्ष स्वर्ण जयंती का जश्न मनाया जाएगा।

‘हिमाचल प्रदेश के बहादुर सैनिकों को सलाम करता हूं’

राष्ट्रपति ने कहा कि हिमचाल प्रदेश के अभी करीब 1.20 लाख जवान देश के लिए अपनी सेवाएं दे रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘रक्षा बल का प्रमुख होने के नाते, मैं देश की सेवा करने वाले, हिमाचल प्रदेश के बहादुर सैनिकों को सलाम करता हूं।’ महामहिम कोविंद ने कहा कि यशवंत सिंह परमार, पंडित पदम देव जैसी शख्सियतों ने प्रदेश की आजादी के संघर्ष को मुकाम तक पहुंचाया। प्रथम मतदाता श्याम सरण नेगी का भी जिक्र किया। राष्ट्रपति ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्रियों यशवंत सिंह परमार, ठाकुर राम लाल, शांता कुमार, वीरभद्र सिंह और प्रेम कुमार धूमल ने प्रदेश के विकास में अहम भूमिका निभाई है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि प्रदेश ने शत-प्रतिशत आबादी को कोविड वैक्सीन की पहली डोज लगाने का कीर्तिमान स्थापित किया है। कोरोना की लड़ाई में प्रदेश चैंपियन बनकर सामने आया है। राष्ट्रपति कोविंद ने सदन में आह्वान किया कि हिमाचल एक दिन देश का सिरमौर बने। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने परमवीर चक्र विजेता मेजर सोमनाथ शर्मा, कारगिल शहीद कैप्टन ब्रिकम बतरा को भी याद किया। वहीं अटल टनल रोहतांग का जिक्र करते हुए महामहिम कोविंद ने कहा कि इससे मनाली-लेह की दूरी कम हुई है। वहीं सेना को सालभर बॉर्डर तक रसद ले जाने में अब दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ रहा है। अटल टनल के बनने से लाहौल के लोगों का जीवन भी आसान हो गया है।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें