इंसान की तंत्रिका पर भी दिखने लगा है कोरोनकाल का असर

खास ख़बरें

नई दिल्ली, 10 सितंबर (वेब वार्ता)। कोरोना काल का प्रभाव सिर्फ संक्रमण और उससे होने वाले नुकसान तक ही सीमित नहीं है बल्कि इसका दुष्प्रभाव अब इंसान की तंत्रिका तंत्र (न्यूरो) पर भी दिखने लगा है। लोगों में कोरोना संक्रमण का इस कदर भय हावी है कि इसके कारण उनकी रातों की नींद उड़ गई है। अपने परिजनों की मौत से आहत लोग अवसादग्रस्त रहने लगे हैं। तनाव और भय का यह मेल इंसानी जिंदगी के लिए न्यूरोलॉजिकल समस्याओं के तौर पर नई चुनौती के रूप में उभरकर सामने आया है। इन तमाम चुनौतियों का सामना करने के लिए जनकपुरी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल (जेएसएसएच) ने स्लीप स्टडी एंड एपिलेप्सी मॉनिटरिंग यूनिट शुरू किया है। शुक्रवार को अस्पताल के निदेशक डॉ.(प्रो) बी.एल चौधरी ने यूनिट का उद्घाटन किया। अस्पताल के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. वसुंधरा अग्रवाल के मुताबिक अत्याधुनिक सुविधा युक्त यूनिट संचालित होने से स्लीप एपनिया, पीरियोडिक लिम्ब मूवमेंट डिसऑर्डर, नार्कोलेप्सी, आरईएम स्लीप, अनएक्सप्लेन्ड क्रॉनिक इनसोमनिया जैसे स्लीप रिलेटेड डिसऑर्डर के निदान में लाभ होगा। इस दौरान कर्नल (सेवानिवृत्त) डॉ. एचसी शर्मा (चिकित्सा अधीक्षक), डॉ एससी चेतल (सीएमओ-एसएजी), डॉ शिव शंकर प्रसाद सिंह (अतिरिक्त चिकित्सा अधीक्षक), डॉ वसुंधरा अग्रवाल, एचओडी-न्यूरोलॉजी विभाग सहित अन्य कई गणामन्य मौजूद रहे।

- Advertisement -

संबंधित ख़बरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें